The School Weekly 21st December 2020

Virtual School Functioning
Academics
KidEx All Round Championship second set of activities is open now. They have already submitted their first set of activities
E- Learning Session was scheduled on 12th December’20 for all sections. Three Digital Learning tools were introduced: Canva App, Jeopardy Labs, Live Worksheets.
UT III was conducted in the Senior Section.
Pre Board I Examination have started in Class X & XII 
My Good School Activities
Sports Quiz, GK Quiz, Personal Hygiene & Health Awareness Projects, live Tinkering sessions are the part of My Good School Activities.
 
Professional Development
Mr. Jitendra Suthar designed a Digital Learning Tool App (DLT app). All the tools are combined at one place
Edthena: Educators are working on Chapter 5 Handling Pressure. They uploaded group/individual audio file in their respective groups. In the fourth cycle of PLP Create, the Educators are working on individual videos of Chapter 4 ‘Courage’.
Posts from our Educators
आशा 
आशा जीवन रूपी फूल की सुगंध हैं, किसी कार्य या बात को पूर्ण हो जाने की उम्मीद को आशा कहते हैं |जहां आशा हैं, उत्साह हैं ,वही सफलता है | कार्य कैसा भी हो यदि मनुष्य आशा और उत्साह के साथ काम करता है तो निश्चय ही सफलता व आनंद दोनों प्राप्त होते हैं | 
मनुष्य को अपना सुखी जीवन जीने के लिए सकारात्मक सोच रखनी चाहिए | जीवन में 'रात व दिन' की तरह आशा और निराशा के क्षण आते-जाते रहते हैं | मनुष्य जिस तरह की भावना रखता हैं वैसी ही  प्रेरणाएं मिलती हैं । आशा वह दीपक हैं जो कठिनाइयों में भी बुझता नहीं है, आत्मा से शक्ति पाकर निरंतर जलता रहता है । सच्ची मित्रता रंग रूप नहीं देखती हैं । मित्रता जीवन को रोमांच से भर देती हैं । मित्र के होने पर हम खुद को अकेला महसूस नहीं करते हैं । व्यक्ति अपने जन्म से ही अपनों के साथ रहता है, खेलता है, उनसे सीखता है पर हर बात व्यक्ति हर किसी को नहीं बताता है। 
वह केवल अपने सच्चे मित्र को ही अपने मन की बात बताता है । जो हमें समय-समय पर जीवन की कठिनाइयों से लड़ने में सहायता प्रदान करता है । हमारे व्यक्तित्व के निर्माण में दोस्तों की मुख्य भूमिका होती हैं । हम अपना सुख दु:ख तथा हर तरह की बातें उसी के साथ बांट सकते हैं जो हमारे मित्र होते है। मित्रता जीवन के किसी भी पड़ाव में हो सकती हैं । सच्ची दोस्ती हमको सदैव सही मार्ग दिखाती हैं - जैसे मोती की माला के टूट  के बिखर जाने पर हम उन्हें बार-बार पीरोते हैं क्योंकि वह मूल्यवान हैं ठीक उसी प्रकार सच्चे मित्र भी मूल्यवान होते हैं उनकी मित्रता हमें बनाए रखनी चाहिए । 
संसार में कई दोस्त होते हैं जो हमेशा अपने मित्रों की समृद्धि के समय ही साथ रहते हैं , लेकिन केवल सच्चे, ईमानदार और वफादार दोस्त ही होते हैं जो हमें कभी भी हमारे जीवन में कठिनाई और मुश्किल के समय में अकेला नहीं होने देते हैं और  हमारा  साथ देते हैं तथा  मनोबल बढाते है।सच्चे मित्र ही बिना विचार किए  हमको संकट में देखकर मदद के लिए आगे आ जाते है।
 जफ्फर खां 
Importance of Mental Health 
Mental Health is not just a concept that refers to an individual’s psychological and emotional well being. Rather, it’s a state of psychological and emotional well-being where individuals can use their cognitive and emotional capabilities and meet the ordinary demand and functions in society. According to WHO, there is no single ‘official’ definition of mental health. Thus, many factors like cultural differences, competing professional theories, and subjective assessments affect how mental health is defined. Also, many experts agree that mental illness and mental health are not antonyms. So, in other words, when the recognized mental disorder is absent, it is not necessarily a sign of mental health. 
One way to think about mental health is to look at how effectively and successfully a person acts. So, there are factors such as feeling competent, capable, handling the normal stress levels, maintaining satisfying relationships, and leading an independent life. Also, this includes recovering from difficult situations and being able to bounce back.  Mental health is related to the personality as a whole of that person. Thus, the most important function of school and education is to safeguard boys and girls' mental health. Physical fitness is not the only measure of good health alone. Rather it’s just a means of promoting mental as well as moral health of the child. The two main factors that affect the most are feeling of inferiority and insecurity. Thus, it affects the child the most. So, they lose self-initiative and confidence. This should be avoided, and children should be constantly encouraged to believe in themselves.
Courtesy Source: https://www.toppr.com/guides/essays/mental-health-essay/
Swabhi Parmar
अध्ययन के लाभ 
मनुष्य स्वभाव से ही अध्ययनशील प्राणी माना गया है। ‘अध्ययन’ शब्द का अर्थ है-पढ़ना। अध्ययन या पढ़ने के मुख्य दो रूप स्वीकारे जाते हैं ।  एक, विशेष अध्ययन, जो किसी विशेष विषय या विशेष प्रकार की पुस्तकों तक ही सीमित हुआ करता है। दूसरा, सामान्य अध्ययन, जो सभी प्रकार के विषयों और पुस्तकों के साथ-साथ पत्र-पत्रिकाएं तथा व्यापक जीवन के प्रत्येक पक्ष पढ़ने तक विस्तृत हो सकता है। 
पहले विशेष अध्ययन के भी दो रूप माने जा सकते हैं-एक किसी विशेष विषय पर शोध करने के लिए और दूसरा विशेष प्रकार की रूचि के अंतर्गत कुछ विशेष प्रकार की पुस्तकों का अध्ययन। आनंद की प्राप्ति इस प्रकार के अध्ययन से भी  हुआ करती है। पर संसार की विविधता के अनुरूप विविध विषयों के अध्ययन का आनंद अपना अलग और सार्वभौमिक महत्व रखता है। इस प्रकार के अध्ययन से हमारा मनोरंजन तो होता ही है साथ ही हमारे व्यावहारिक ज्ञान का क्षेत्र भी विस्तार पाता है। इसी कारण इस व्यापक अध्ययन को विशेष महत्व दिया गया है और इसी को अधिक आनंददायक भी माना जाता है।
बुद्धिमानों और विद्वानों ने पुस्तकों को मनुष्य का सर्वश्रेष्ठ साथी बताया है। मनुष्य चाहे तो उसका यह साथी घर-बाहर प्रत्येक कदम पर उसके साथ रह सकता है। घर में अकेले हैं, समय नहीं कट रहा, कोई पुस्तक उठाकर पढ़ना शुरू कर दीजिए। समय कब बीतेगा पता ही नहीं चलेगा। अकेले बस या ट्रेन में सफर कर रहे हैं। यात्रा बोझिल लग रही है। बस, झोले में से निकालकर कोई पुस्तक या पत्रिका पढ़ना शुरू कर दीजिए। सफर कब कट जाएगा जान तक न सकेंगे।  इसीलिए पुस्तकें जीवन की सर्वश्रेष्ठ साथी मानी गई है । इतना ही नहीं, मन किसी उलझन में पड़ गया है, किसी चिंता ने आ दबोचा है, घबराइए नहीं। कोई अच्छी-सी पुस्तक या किसी सफल महापुरुष की जीवनी निकालकर पढ़ने लगिए। 
कोई कारण नहीं कि उलझन का सुलझाव और समस्या का समाधान न हो जाए। अच्छी पुस्तकों में जीवन को सफल सार्थक बनाने वाले, हमारी उलझनों ओर समस्याओं को सुलझाने वाले अनगिनत उपाय भरे पड़े हैं। वे उपाय मन को आनंदित तो करते ही हैं, कई बार चौंका भी देते हैं और तब हम कहने को बाध्य हो जाया करते हैं कि-बस, इतनी-सी बात के लिए ही हम लोग व्यर्थ में परेशान हो रहे थे। इससे स्पष्ट है कि पुस्तकों का अध्ययन हमें आनंद तो देता ही है, एक अच्छे मित्र के समान हमारे लिए मनोरंजन की सामग्री भी जुटाता है। साथ में अच्छे मित्र के समान ही हमें समय-समय पर सत्परामर्श देकर हमारी समस्याओं का समाधान भी करता है। इन तथ्यों के आलोक में अध्ययन को हम एक अच्छा पथ-प्रदर्शक कह सकते हैं।
उस्मान गनी
Courage is Essential for Life 
Courage is the ability to control fear in a situation that might be dangerous or unpleasant. We all know that we all have some challenges; nobody in the world has a perfect life or happiness all the time. So, courage gives us hope to live and fight for ourselves.  Having courage doesn't mean we can go and hit anyone or we can do whatever we want. Courage is to have a positive energy that gives us the strength to face the challenges we have in life. 
We need courage in many aspects of life. We need the courage to accept the truth and to stand by it, whether it is in our favour or not. A person needs lots of inner strength to accept his or her own mistake in front of others. It requires courage to start again after a failure in life, it is when we feel helpless. Sometimes, we have to decide in life, which can change our lives completely, and we can't do it if we don't have the courage to face further consequences.
Having courage doesn't mean a person is fearless, it means the person is ready to face it. It helps us to start believing in ourselves. It builds confidence in us. If we want to live a respectful life with self-respect, we can't live it without courage. It also helps us to smile and be happy in difficult times. If we take an example of the soldiers, it is their courage and love for their country, which helps them stand in front of our enemy and fight with them even if they know they may die. 
Monika Vaishnav
रिश्तों का महत्त्व 
मनुष्य जीवन रिश्तों से जुड़ा हुआ है। रिश्तों के कारण ही मनुष्य जीवन में आगे बढ़ने की , सफलता पाने की , शिक्षित होने की , कार्य करने की इच्छा रखता है। यदि रिश्ते मजबूत हो तो जीवन खुशहाल व सुखमय बन जाता है, लेकिन रिश्तों में खटास आते ही व्यक्ति भी टूट जाता है। रिश्तों में अपनेपन की भावना की खातिर ही व्यक्ति एक - दूसरे पर मर - मिटने तक को तैयार हो जाते हैं। 
एक माँ के अंदर शुरू से ही अपने बच्चे के प्रति बेहद अपनेपन की भावना कायम हो जाती है। उसे अपना बच्चा सारी दुनिया में सबसे प्रिय व सुंदर लगता है। मनोवैज्ञानिक भी यह मानते हैं कि अकेले व्यक्ति को भौतिक , भावनात्मक , मानसिक व आर्थिक सहयोग नहीं मिल पाता है। करीबी रिश्तेदारों एवं मित्रों से व्यक्ति अपने मन की वे सारी बातें करते हैं , जिन्हें वे अन्य व्यक्तियों से नहीं कर पाते हैं। 
रिश्तेदार व परिवार व्यक्ति के बुरे समय में साथ खड़े रहते हैं। ऐसे में अकेले व्यक्ति की पीड़ा पूरे परिवार और रिश्तेदारों की पीड़ा बन जाती हैं। वे एकजुट होकर मुसीबत से लड़ते है और मुसीबत को दूर भगा कर कामयाबी हासिल करते है। दोस्त रिश्तेदार और परिवार दुआ भी बन जाए इसके लिए व्यक्ति को प्रेम , दुआ , विनम्रता और मदद का मार्ग पकड़ लेना चाहिए। इससे ये बंधन मजबूत होकर जीवन को सशक्त , रोगहीन व सफल बनाने में निर्णायक भूमिका निभाते है।
 रिश्ते निभाना भी समझौते का दूसरा नाम है। रिश्ते केवल खून के ही नहीं होते हैं , भावनात्मक भी होते हैं। कई बार भावनात्मक रिश्ते अटूट बन जाते हैं , क्योंकि उनमें प्रेम , सामंजस्य , धैर्य और ईमानदारी का साथ होता हैं।
  
Ayasha Tak
Posts from our Students
Social Media
In little more than a decade, the impact of social media has gone from being an entertaining extra to a fully integrated part of nearly every aspect of daily life for many.
Recently in the realm of commerce, Facebook faced skepticism in its testimony to the Senate Banking Committee on Libra, its proposed crypto currency and alternative financial system. In politics, heartthrob Justin Bieber tweeted the President of the United States, imploring him to “let those kids out of cages.” In law enforcement, the Philadelphia police department moved to terminate more than a dozen police officers after their racist comments on social media were revealed.
And in the ultimate meshing of the digital and physical worlds, Elon Musk raised the specter of essentially removing the space between social and media through the invention — at some future time — of a brain implant that connects human tissue to computer chips.
Praveen Dewasi/ IX
How is Yoga Beneficial for Us
Yoga is an ancient art that connects the mind and body. It is an exercise that we perform by balancing the elements of our bodies. In addition, it helps us meditate and relax. Moreover, yoga helps us keep control of our bodies as well as mind. It is a great channel for releasing our stress and anxiety. Yoga gained popularity gradually and is now spread in all regions of the world. It unites people in harmony and peace. Yoga essentially originated in the subcontinent of India. It has been around since ancient times and was performed by yogis. 
The term 'yoga' has been derived from a Sanskrit word which translates to basically union and discipline. In the earlier days, the followers of Hinduism, Buddhism, and Jainism practiced it. Slowly, it found its way in Western countries. Ever since people from all over the world perform yoga to relax their minds and keep their bodies fit.
Furthermore, after this popularity of yoga, India became known for yoga worldwide. People all over the world have started to realize the benefits of yoga. Several workshops are held and now there are even professional yogis who teach this ancient practice to people so they can learn about it.
Yashwardhan Singh/ VII B
ईमानदारी   
ईमानदारी वास्तव में सबसे अच्छी नीति है क्योंकि यह एक अच्छी तरह से काम करने वाले रिश्ते की नींव है। इतना ही नहीं, यह कई तरह से लोगों के जीवन को पोषण करता है। भरोसा किसी भी रिश्ते का आधार है जो ईमानदारी से प्राप्त किया जाता है। 
आमतौर पर लोगों को ईमानदार होना कठिन लगता है क्योंकि ईमानदारी को बनाए रखना काफी मुश्किल है। ईमानदारी का मतलब जीवन के सभी पहलुओं में एक व्यक्ति के लिए सच्चा होना है। इसमें किसी को झूठ नहीं बोलना बुरी आदतों, गतिविधियों या व्यवहार के माध्यम से किसी को भी चोट नहीं पहुंचाना शामिल है।
ईमानदार व्यक्ति कभी भी उन गतिविधियों में शामिल नहीं हो जाता है जो नैतिक रूप से गलत हैं। ईमानदारी से किसी भी नियम का पालन करे, अनुशासन में रहे, अच्छा व्यवहार करें, सच बोले , वक्त के मुताबिक रहे और ईमानदारी से दूसरों की सहायता करें।
अरमान खान/ VIII
Sharing
Sharing is a good habit and one of the important values of life. Children need to learn to share things so that they can make new friends  and keep friends, play cooperatively, take turns, and cope with disappointment. Sharing teaches children about compromise and fairness. They learn that if we give a little to others which they really need, it will build trust between them and also motivates others to share. 
Sharing is a key part of getting along with others; it builds a bond and makes our friendship stronger. If we don't share, we can't accept from others to share things with us whenever we are in need. 
Children learn a lot from just watching what their elders do. When you model good sharing and turn-taking in your family, it gives your children a great example to follow.
Mansi Prajapati/ V
Respect
Respect is a very important part of life. If a person is respected, it makes him feel good and in return, he or she respects you. Respect is important for me because if a person doesn't respect anyone, he himself would not be  respected by others and over time, he would grow up to be a very rude and inconsiderate person.
Maheshwari Sompura/ II


Volume No. 451  Published by The Editorial Board: Mrs Bharti Rao, Mr Krishan Gopal, Ms Swabhi Parmar,
Chief Editor: Diksha Choudhary, Secretary: Uma Choudhary, Joint Secretary: Mansi Choudhary, Editors: Anumesh Rao, Krisha Dave, Puran Choudhary, Jatin Tripash, Diksha Choudhary, Tammana Solanki, Uma Choudhary, Priyanka Deora, Krithika Rajpurohit, & Kunal Rajpurohit.

Taking Learning Forward @ The Fabindia School

Back Issues of The School Weekly