The School Weekly 12th July 2021

News & Events
Monday - Saturday, 28th June-2nd July: The school organised an IH Poetry Writing Competition. In this competition, students wrote poems on their own. This competition was like wings to their imagination and creativity. 
Saturday, 10th July: Students of Classes V and VI had a  workshop organised by  Ignited Mindz Inoventures Organization. In this session, the students came to know about a different way to see the time used in ancient times. 
School Assembly was organised by the students of Class XII. It started with a prayer. It was virtually conducted the way we were in school. Results of the Poetry Competition were announced as follows:
Results of Primary Section 
1st - Shourya Jodha / Class I,
2nd - Kanishka Rajpurohit / Class IV 
3rd - Yugveer Singh / Class I. 
Results of Middle section
1st - Tamanna Solanki/ Class VIII B
2nd -  Hetal Vaishnav / Class VIII A 
3rd - Hardik Soni / Class VII A 
Results of Senior Section 
1st-  Khush Rajpurohit/Class XII Sci
2nd- Rahul Vaishnav / Class XII Sci 
3rd- Meenakshi Choudhary/ XII Sci
                Pankaj Singh of class XII Com 
                Kritika Rajpurohit of class XI. 
Judges for Primary Section
Meet Soni Class XII Com.
Khush Rajpurohit  Class XII Sci 
Judges for Middle Section
Khush Suthar Class XII Sci.
Rahul Vaishnav Class XII Sci.
Judges for Senior Section 
Mrs. Bharti Rao 
Ms. Swabhi Parmar
Community Service
Community Service is a path that connects us to different ways of happiness. It is a source of acquiring life skills and knowledge, being a social volunteer is a blessed opportunity in itself. It is also a platform to practice different skills like Leadership, time- management, communication skills, professionalism, critical thinking & problem -solving and many more. It helps a person to build connections mentally, physically and emotionally. Providing service to those who need it most will be the right way to follow this profession. 
Sanyogita Ranawat 
X A

Importance of Taking Care of Animals
Animals are our companions, they need special care when they are brought home at an early age. During this pandemic being at home without going out was quite difficult. We bought a puppy and it was just twenty days old in June’2020. We felt like a new family member joined us. It was fun playing, feeding and talking to the puppy. It’s name is Jimmy. Responsibility of taking care of it was given to my elder son,  but everyone at home started caring for it just like a small baby. Whenever we go out for a walk it comes behind us wagging its tail. Everyday in the morning I go with it for a walk and in the evening both my kids go along with it.  We ordered chest belt, neck belt , mask, pedigree and calcium bones online as they were not available in medical shops. When I chop some tomatoes in the kitchen for making curry it just starts barking because it likes to eat tomatoes . 
So I will have to put some chopped tomatoes in the bowl and if I give a whole tomato first it will play with it like a ball and then enjoy eating it. In the evening we play shuttle badminton and it keeps watching us.  It also likes the ball rolling on the ground and moving forward with it. If we scold it for any mistakes then it becomes sad as if not loved or hugged. If we ignore Jimmy while gossiping it starts barking and even it wants to be a part of our gossip. It keeps barking if any strangers are seen near the house all the time. 
When Jimmy was seven months old it climbed up the stairs and hid there.  I kept on calling Jimmy and searched everywhere and then in a hurry it jumped from the stairs and got hurt in it’s right leg and was unconscious for an hour. We were shocked and then took it to a nearby veterinary hospital. I was worried about it and from then onwards we started caring like more than a little child. When it sees someone after a day or two it just bites, licks and hugs as if it is the one who missed the person most amongst other family members. It’s fun having a puppy and watching it growing up. 
Educator: Kavitha Devda 

Spreading Awareness about Corona Virus - Aarav Solanki

Cooking is Love...!!!
Cooking is a good hobby which I have. I cook many dishes at home, I also bake cakes of different flavours like chocolate, vanilla strawberry etc.
 I can show my creativity through that and  I really enjoy cooking. I love to try new dishes. In the beginning, when I didn't know how to make dishes, I started watching dishes from YouTube and tried to make it so.  I used to stand with my mother in the kitchen and watch how she cooked . It is a good activity to engage our mind.  I love it because cooking gives me a chance to be creative.  Cooking is one of the best ways to learn important life skills. I love to mix flavours and taste them. It's fun to cook. I bake a bake on the birthday of my family members. 
Kesar Sompura/ VIII B

Session on STEM activity by Ignited Mindz
Ignited Mindz inoventures organization work on STEM projects for students. "Knewton box" is a product where we can find all the Grade specific science experiments.
We had a session on 10th July,21 for class 5 & 6 students. "How to prepare Sundial" Activity was performed. 
Hear it from our young mind : 
Before the invention of the clock, the sundial was the only source of time. I have the oldest method to see the time with the help of the sun. This session was very interesting, I have learnt a very new concept of time. 
Rajveer Singh / VI


Yoga is a boon which heals our mind & body soon
Yoga supports our physical well-being. Yoga posture improves our body flexibility and strength. It increases breathing  and lung capacity. It gives us peace of mind and sharps our focus and concentration. It improves self regulation and builds foundation for life well being. My father is a Yoga teacher and I regularly do yoga every morning.
Kanishka Lakshman Rajpurohit 
Class IV

I am improving my sports skills by practicing the techniques taught by my teachers. I have been practicing to build endurance, alertness, and to increase running speed. I am also focusing on improving my football skills. I do work out to make myself stronger and increase my strength to make myself physically fit.
Vipul Rajpurohit
Class XII Com.
                          Our Poets

कोरोना को हराना है
मिलकर कोरोना को हराना है,
घर से हमें कहीं नहीं जाना है,
हाथ किसी से नहीं मिलाना है,
चेहरे पर हाथ नहीं लगाना है,
बार-बार अच्छे से हाथ धोते जाना है,
सेनेटाइज करके देश को स्वच्छ बनाना है,
बचाव ही इलाज है, यह समझाना है,
कोरोना से हमें नहीं घबराना है,
सावधानी रखकर कोरोना को मिटाना है,
देशहित में सभी को यह कदम उठाना है।
Name - Hetal Vaishnav
Class - VIII
 
पानी नीला 
समंदर का पानी नीला - नीला ,
कितना गहरा, कितना गहरा।
इसमें भी एक दुनिया बसती,
लाखों मछलियां इसमें रहती।
लहरें इसके कितनी प्यारी,            
डॉल्फिन की लगती है सवारी।    
    
मन करता है मैं भी इसमें ,
बसा लूं अपनी दुनिया प्यारी ।
नाम -जयदीप सोमपुरा 
कक्षा तीन

WATER O WATER
Water has no taste
Water has no smell
Without water there is no life
If we don't save water, all will die.
Water helps us to quench  the thirst.
Water helps plants to make the food.
Don't waste it, we can't make this mistake.
We must save water for everyone's sake.
Tanishi Chitara 
Class III

हकीकत
कहते हैं वो हमें भींगना नहीं आता
बादल की तरह कभी बरस कर तो देखो
कागज़ की कश्ती एक हम भी बनाएंगे
आंगन से कभी हमारे गुज़र के तो देखो।
कहते हैं वो हमें इठलाना नहीं आता
सर्द हवाओं सी गुज़र कर तो देखो
स्पर्श से तुम्हारे संवर जाऊंगा, मैं
सांसें हमारी कभी छु कर तो देखो।
कहते हैं वो हमें उभरते नहीं आता
सुरज के तरह चमक कर तो देखो
पलकें झुका कर हम सुनते रहेंगे
आंखे उठा कर कुछ कह कर तो देखो।
वो कहते है हम में बचपना नहीं है
बर्फ की तरह बरस कर तो देखो
मासूमियत ज़रा तुम्हें हम भी दिखाएंगे
अपनी गोद का सिरहाना बना कर तो देखो।
भींगना इठलाना हमें भी आता है
तुम मौसम के तरह उभर कर तो देखो
अंदाज हमारा ज़रा हम भी दिखाएंगे
ख्वाबों से हकीकत में कभी आ कर तो देखो।
रोज आते हैं बादल
छेड़ जाता है सूरज,
ये हवाएं भी अपनी सी लगती है
वो छवि जो सपनों में देखीं थीं हमने
वो शायद हकीकत में किसी से तो मिलती है
क्या देखीं होगी उन्होंने भी हमारी छवि
और सपने हमारे और हमारी शिकायतों को लेकर,
चलो अब मिल जाओ कहीं नींदों से परे
सपनों को हकीकत बना कर तो देखो।
मिल जाए कहीं तो जाने ना देंगे
खुद में उन्हें समां लेंगे हम
एक टक हमें बस सुनते रहे वो
और बस हंस कर बातें सुनाते रहे हम
और बस हंस कर बातें सुनाते रहे हम।।
Name :- Khush Rajpurohit 
Class :- XII Science 

विचारों की आजादी ही सच्ची आजादी है
" हो सकता है कि मैं आपके विचारों से सहमत न हो पाऊं । परन्तु विचार प्रकट करने के आपके अधिकार की रक्षा करूंगा।" - वाल्टेयर, एक प्रसिद्ध फ़्रांसीसी दार्शनिक
इससे मुझे आत्मविश्वास की अनुभूति होती है कि हां हम तार्किक या अतार्किक कोई भी बात कहे,  जो किसी को पसंद आए न आए परन्तु हमें अपने विचार प्रकट करने की आजादी है।
कहा जाता है कि पराधीनता सबसे बड़ा दुःख है जबकि स्वाधीनता अर्थात् खुद के अधीन होना सबसे बड़ा सुख है। इस धरा पर सभी प्राणी सुखी होने के लिए आजाद रहना चाहते हैं। आज़ादी का अर्थ है कि हम स्वतंत्र रहकर काम कर सके, बोल सके। स्वाधीनता मानव की ही नहीं बल्कि हर प्राणी मात्र की सहज प्रवृत्ति है।किसी पक्षी को सोने के पिंजरे में भी बंद किया जाए तो वह छटपटाने लगता है जबकि खुलें आसमान में रह कर वह प्रसन्न रहता है। पराधीन व्यक्ति हमेशा काम करने के लिए दूसरे का मुंह ताकता रहता है, दूसरा जैसा कहे उसी के अनुसार अपना जीवन धकेलने के मजबूर होता है।उसमें न तो आत्मसम्मान होता है न ही स्वाभिमान, हर वक्त लटका चेहरा, दूसरों के सामने गिड़गिड़ाने जैसे भाव बने रहते हैं। अब प्रश्न यह है कि आजाद देश का निवासी होने से क्या कोई आजाद कहलाता है या आजादी के सही मायने कुछ और है। यह सत्य है कि आजाद देश का वासी होना बड़े गौरव की बात है पर गौरवान्वित महसूस करने के लिए स्वयं को भी आजाद होना जरूरी है। युगों - युगों से अनेक जड़ परम्पराओं का दास बना मानव दासता की उन कड़ी बेड़ियों में जब्त है, अज्ञानता के घने अंधकार में कैद है और बंधनों की चादर कुछ इस प्रकार ओढ़ ली है कि आजाद देश का वासी होकर भी सही मायने में आजाद नहीं है। संकीर्ण ओर दकियानूसी सोच के कारण मानव जब तक पुरानी सोच के अनुसार जीवन यापन करता रहता है वह आजाद नहीं कहा जा सकता।  कहीं कुछ ग़लत होता देखकर उसका विरोध न करें, किसी सामाजिक समस्याओं के खिलाफ अपने भाव व विचार प्रकट न करे तो वह आजाद देश में रहकर भी परतंत्र और गुलाम है। विचार आजाद होंगे तभी मानव आजाद होगा और विचारों की आजादी के लिए प्रयास स्वयं करना होगा।
उर्मिला राठौड़/ Educator 
अनुशासन
“स्वयं पर स्वयं का शासन कहलाता है अनुशासन 
यह कोई पराधीनता नहीं, ना ही है कोई बंधन
 यह है नियमों का अनुकरण,
 बनता है जिससे आदर्श जीवन।“
“अनुशासन चेतना का परिष्करण है,
अनुशासन सिद्धांतों का अनुकरण है, 
अनुशासन सुसंस्कारों का धरोहर है,
अनुशासन सफल जीवन का आधार है।“
अनुशासन को एकल शब्द कहा जाता है, जो एक औसत व्यक्ति को एक महान व्यक्तित्व में बदल देता है। इस दुनिया की सभी महान हस्तियों के बीच एक गुण है, जो सामान्य हैं वह है अनुशासन।अनुशासित दिनचर्या और उनके मन पर कठोर नियंत्रण ने उन्हें मानव जाति के इतिहास में अमर बना दिया। अनुशासन जीवन में सफलता प्राप्त करने में मदद करता है और सभी सफल लोगों की कहानियाँ हमेशा उनके जीवन में अनुशासन के महत्व को शामिल करेगी।
अनुशासन केवल दूसरों के बनाए नियमों के पालन करने को नहीं कहते, इसमें हमें स्वयं हमारे जीवन को सुव्यवस्थित व नियंत्रित ढंग से यापन करने के लिए नियमों का निर्माण करना व कठोरता से पालन करना है। अनुशासित व्यक्ति कभी जीवन में असफलता का मुँह नहीं देखता।सफल होने के लिए निरंतर प्रयास करने होते हैं। जिसमें अनुशासन एक महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है। हमें हमेशा प्रकृति की तरह अनुशासित रहना चाहिए। जिस तरह से सूर्य समय पर उदय होता है, पृथ्वी अपने अक्ष पर घुमती है, चंद्रमा अपने समय अनुसार निकलता है,मौसम अपने समय के आधार पर बदलते हैं। ये सभी अनुशासित ढंग से अपना कार्य करते हैं। ठीक इसी तरह हमें भी अनुशासन बनाए रखते हुए लक्ष्य की ओर आगे बढ़ना चाहिए।                                                                   ज्योति सैन/ Educator

Volume No. 474 Published by The Editorial Board: Ms. Monika Vaishnav, Ms. Urmila Rathore, Mr. Jitendra Suthar, Khush Rajpurohit, Ipshita Rathore, Vishal Rathore, Mangilal Dewasi, Jatin Tripash, Riya Vaishnav, Rahul Vaishnav,Tamanna Solanki, Khush Suthar, Komal Sompura amd Kunal Rajpurohit



Taking Learning Forward @ The Fabindia School

Back Issues of The School Weekly