The School Weekly 18th July 2022

News & Events
Tuesday,12th July:  On the occasion of Malala Day, Mrs. Punita Chouhan shared about Malala Yusufzai's achievements and her journey to receive Nobel Peace Prize, she also shared about her work  towards women empowerment. 

Wednesday,13th July: On the occasion of Guru Purnima, students recited poems,  sholaks, and shared stories about the role of Guru in our life.
बुधवार को हमारे विद्यालय में प्रातः सभा के बाद में गुरु पूर्णिमा महोत्सव का आयोजन किया गया  जिसमें व्यक्ति के जीवन में गुरु की भूमिका और उनके महत्व और गुरु पूर्णिमा मनाने के कारणों पर व्याख्यान माला का आयोजन किया गया । विद्यालय के छात्र-छात्राओं ने कविताओं और अपने-अपने व्यक्तिगत अनुभवों के माध्यम से गुरु की महिमा पर अपने-अपने मन के उद्गार व्यक्त किए।
 इसी कड़ी में महापुरुषों की वाणियों के उद्धरणों के माध्यम से पूर्णिमा मनाने के शास्त्रीय महत्व से अवगत कराया और गुरु के प्रति सच्ची श्रद्धा और पूर्ण निष्ठावान बनकर अपने जीवन का उद्धार करने के लिए संकल्पित होने की सीख दी। विद्यालय के प्रायोजित "विराट हिन्दी कवि सम्मेलन" के लिए विद्यालय के छात्र-छात्राओं को पूर्वाभ्यास कराया गया और कविता-पाठ के लिए चयन किया गया । इस आयोजन को लेकर सभी विद्यार्थी बड़े ही उत्साहित है ।
The Pre-Primary students made cards for the teachers on occasion of Guru Purnima
Prize Giving Ceremony

Saturday, 16th July: Prize Giving Ceremony was organized to felicitate students with academic excellence for 2021-22.  
These awardees exemplify morals and values like discipline, compassion and zeal for learning. Dr. Mangilal Choudhary, MBBS, MS(General Surgery) was invited as the Chief Guest for this ceremony. He showered his blessings on the students with pearls of wisdom. He motivated the students and suggested to set goals to achieve. 
This event culminated with the hope that coming years will see more and more sharing of awards.
कवि सम्मेलन


शनिवार को विराट कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। जिसमें बाल कवियों ने भाग लिया। हालांकि कुछ कविताएँ अन्य कवियों की थी परंतु बालकों का प्रयास सराहनीय था, ये श्रोताओं के उत्साह से ही पता चल रहा था। इसी प्रयास में हिंदी के महान कवियों को याद किया गया। किसी ने हास्य रस तो किसी ने वीर रस की कविताओं को गाकर प्रस्तुति दी। कविताएँ प्रेरणा स्रोत होती है इसलिए कई बाल कवियों ने जीवन की वास्तविकता और जीवन में क्या महत्वपूर्ण है इन विषयों को लेकर भी कविताओं के माध्यम से बताया श्रोता भी आनंदित और प्रफुल्लित हुए बिना न रह सके इस अवसर पर अतिथि गण एवं अभिभावक गण भी उपस्थित थे।
Locomotive skills

Enjoy some pictures of children enjoying a fun filled Saturday 
 



Leadership
Let me start my today's speech by quoting names of a few famous leaders from history like Mahatma Gandhi, Subhash Chandra Bose, Nelson Mandela and the list is truly endless. But what was common in all of them that made them such famous and remarkable leaders? It was their qualities that made people respect and follow them. A leader is the one who knows the path, shows the path and walks on the path. It is very true. A person who just guides you and points out the path is not a leader. But the person who is ready to step on the risky path with you by holding your hand, is the true leader. Leadership is the art of motivating a group of people to act towards achieving a common goal. The qualities required for Leadership are not cultivated in a day. But it does not mean you can never learn them, you can learn them, but with time.
At last I want to conclude my speech with a beautiful code that 'Leadership cannot be taught it has to be learned like respect cannot be bought it has to be earned'.
Yamini Rathore/ X
गुरु पूर्णिमा
गुरु पूर्णिमा के इस पवित्र अवसर पर गुरुजनों को मेरा नमस्कार। मेरे अनुसार गुरु वह होता है जो हमें अंधेरे से उजाले में लेकर जाता है, जो हमें किसी भी चीज के बारे में सही और गलत बताता है, जो हमें अपने अंदर के टैलेंट से मिलवाता है, जो हमारे दिल में बस जाता है। जब भी कोई व्यक्ति आपके दिल में बस जाए समझो वह आपका गुरु बन जाता है। गुरु उस दीपक की तरह होता है जो सारी जिंदगी जलता है ताकि दूसरे लोगों की जिंदगी में उजाला ला सके। संस्कृत में ऐसे कई लोग हैं जिन्होंने गुरु को भगवान से भी ऊँचा स्थान दिया है। जैसे 
गुरुब्रह्मा गुरु: विष्णु गुरु देवो महेश्वर:
गुरु: साक्षात परम ब्रह्म तस्मै श्री गुरुवै नमः।
इसका अर्थ है कि गुरु श्री देव से भी बड़े हैं। महान कवि कबीर दास जी ने यह कहा है कि 
गुरु गोविंद के दोहे खड़े काके लागू पाय।
बलिहारी गुरु आपकी गोविंद दियो बताए।।
गुरु का अनादर करने वाले को विद्या नहीं मिलती इसलिए गुरु का सम्मान करें उनपर श्रद्धा रखें।
विद्या धनं सर्व धन प्रधानम्
गुरु से प्राप्त विद्या धन सभी प्रकार के धन में प्रधान है। 
जिनसे भी हम कुछ सीखते है वही गुरु है सम्माननीय है।
यशवंत सिंह / X
Be a Warrior, Not a worrier
These days where literally no one is happy, being happy is a memorable feeling. I really don't understand why people are so worried, tensed and anxious even about small issues. For me, as a student, the most relatable example for this would be exams. I know exams are not a small issue. but an issue where people get tensed! We all know the pressure on students for exams. In exam time, all students are tensed about the exams, but why? There are no marks for getting worried during exam time. I know that it's not the time where we can just chill, but it doesn't mean that it's the time to worry. But people say that these things are only for saying. However, I think that we can apply these things in our lives, but people have not framed it that way. This is not the only, but definitely a reason for making the students worried during exams.
Tamanna Solanki / VIII
बारिश
हमारे यहाॅं छह प्रकार की ऋतुऍं होती है। उसमें से मेरी पसंदीदा ऋतु वर्षा ऋतु है। यह मौसम जून महीने में शुरू होता है। जब बारिश आती है तो हर जगह मिट्टी की खुशबू आने लगती है। मुझे पहली बारिश में भीगना अच्छा लगता है। बारिश के मौसम में सब जगह हरियाली ही हरियाली होती है। इस ऋतु में कोयल गाना गाने लगती है मोर नाचने लगते हैं। इस मौसम में लोग पहाड़ों पर घूमने जाते हैं। इस ऋतु में जो पशु-पक्षी धूप से बेहाल हो जाते हैं उन्हें राहत मिलती है। किसानों के लिए भी यह मौसम बहुत लाभदायक होता है। किसान अपने खेतों में फसल आने के लिए बारिश का इंतजार करते हैं। उनकी खेती बारिश पर निर्भर होती है।सभी जीव, जंतु, पशु, पक्षी, इंसान, पेड़, पौधे सभी को बरसात की आवश्यकता रहती है। सभी के लिए बरसात बहुत ही आवश्यक है। बारिश की वजह से ही सब को पानी मिलता है। अंत में मैं यही कहूंगी कि प्रकृति का सुंदर नजारा देखने के लिए बारिश का होना बहुत ही आवश्यक है। बारिश होने के बाद धरती का नजारा ही अलग होता है। बरसात के बिना अर्थात पानी के बिना किसी का जीवन असंभव है।
भूमिका कुमारी /Vlll
Goal Settings
When I was in Ninth Class I was not able to prepare well for my Unit Test, but I attempted the Unit Test. When result came out and I got to know that I had scored a zero; I was shocked and I was not ready to take that, I was so depressed ,I felt shameful and I cried like crazy. When I reached home and told about my marks, no one was sad but all were trying to motivate me but I was not ready to take that. That night I was unable to sleep and I noticed that an ant was struggling to climb the wall to reach its goal, but was falling again and again. It didn't lose hope, after some time it reached its goal. I thought that I had just failed once and was losing hope, but the little ant failed so many times yet it tried to reach its goal. I was motivated by its struggle. I boosted my confidence and studied well for the next exam and I got good marks in the Yearly exams. So never lose hope and always try your best.
Jeenal Meena /
पिता
जो गलती होने पर हमेशा मुझे समझाते।
जो खुद दुखी रह कर मेरी खुशी के बारे में सोचते।
जिसने किसी भी चीज की कमी का ना होने दिया एहसास मुझे।
शाम होते ही जिसके आने की रहे आस मुझे।
जिसने खुद अंधेरे में रहकर लाया मेरी जिंदगी में उजाला।
वही तो है बड़ी बड़ी मुश्किलों का करके सामना मुझे लाड प्यार से पाला।
जिसने सुख अपना छुपा कर लाई मेरे चेहरे पर मुस्कान।
वही तो है, जो मुस्कुरा कर छुपाई अपनी सारी थकान।
जो पूछ ले वह मुस्कुरा कर तकलीफ, मेरी वही मायूसी नए हौसले की उड़ान है।
वही तो है, जिसमें जिसमें बसता मेरा पूरा जहान है।
जो देखे मेरी कामयाबी मैं अपनी जीत,
वही तो मेरी जान मेरा पूरा आसमान है।
मुझे मोहब्बत है, अपने इन हाथों की लकीरों से।
जो पाया मैंने, उनको अपनी इन तकदीरों से।
तो संघर्ष की आंधियों में बने मेरी हौसले की दीवार है।
वही तो है, जिसके सामने सिर झुकती हार है।
दक्षिता सिरवी / X 
राणा प्रताप की तलवार 
चढ चेतक पर तलवार उठा,
रखता था भूतल पानी को।
राणा ‌‌‍‌प्रता‌प सिर काट काट,
करता था सफल जवानी को।।
 
कलकल बहती थी रणग‌ंगा,
अरिदल को ‌‌डूब नहाने को।
तलवार वीर की नाव बनी,
चटपट उस पार लगाने को।।
 
वैरीदल को ललकार गिरी,
वह नागिन सी फुफकार गिरी।
था शोर मौत से बचो बचो,
तलवार गिरी तलवार गिरी।।
 
पैदल, हयदल, गजदल में,
छप छप करती वह निकल गई।
क्षण कहां गई कुछ पता न फिर,
देखो चम- चम वह निकल गई।।
 
क्षण इधर गई क्षण उधर गई,
क्षण चढी बाढ सी उतर गई।
था प्रलय चमकती जिधर गई,
क्षण शोर हो गया किधर गई।।
 
लहराती थी सिर काट काट,
बलखाती थी भू पाट पाट।
बिखराती अवयव बाट बाट,
तनती थी लोहु चाट चाट।।
 
क्षण भीषण हलचल मचा मचा,
राणा कर की तलवार बढी।
था शोर रक्त पीने को यह,
रण चण्डी जीभ पसार बढी।।
 ( श्यामनारायण पाण्डेय)
आराध्या चंपावत /Vlll
मेरा प्यारा मित्र 
मेरा प्यारा मित्र मेरा भाई भावेश है, जो हमेशा अपने आप से पहले मुझे रखता है ।जिसे खाना बनाना नहीं आता लेकिन मुझे कभी भूखा नहीं सोने नहीं दिया। हमेशा पूछता है, मैं मैगी बना रहा हूं पागल तू खाएगी? मेरे मना कर लेने पर भी वह मुझे अपने अंदर से हिस्सा दे देता है ।हम दोनों टीवी के रिमोट के लिए लड़ते हैं ,आखिर में मैं जीत जाती हूं । हमेशा मेरे मुँह पर मुझे कोसता है ,लेकिन जब मैं उसके पास नहीं होती तो उसका कहीं मन नहीं लगता । ऐसा माना गया है कि मित्रता ही दुनिया का एकमात्र ऐसा रिश्ता है जो हम खुद बनाते हैं ,जो हमारे हाथ में होता है ,कि हम किसे अपना प्यारा मित्र बनाए। जरूरी नहीं कि हमारी कक्षा में हम जिसके साथ खेलते हैं ,वही हमारा प्यारा मित्र हो ,ऐसा जरूरी नहीं हमारा प्यारा मित्र वह होता है ,जिसके साथ हम अपनी सारी बातें बताते हैं । जिसके बिना ,जो हमारा साथ दें किसी भी परिस्थिति में इसलिए मेरे लिए मेरा मित्र मेरा भाई है।
 वृतिका सीरवी / V

Birthday Wishes to Mr. Usman Gani and Ms. Kusum Sharma, May God shower love and happiness on them.

Volume No. 519 Published by The Editorial Board: Mr Jitendra Suthar, Ms Jyoti Sain, Ms. Harshita Suthar, Jatin Tripash, Pushpendra Singh Ranawat, Yashwant Singh Sonigra, Mohammad Anas.

The School Weekly

Story of The Fabindia School by Bharti Rao